Monday , 10 June 2024
Home खेती सरसों की खेती  किसानों के लिए   हुई लाभदायक , खेती से लाभ  और  उन्नत तकनीकी से  सरसो  की खेती  जानिये कैसे  करे
खेती

सरसों की खेती  किसानों के लिए   हुई लाभदायक , खेती से लाभ  और  उन्नत तकनीकी से  सरसो  की खेती  जानिये कैसे  करे

सरसों की खेती  किसानों के लिए   हुई लाभदायक , खेती से लाभ  और  उन्नत तकनीकी से  सरसो  की खेती  जानिये कैसे  करे

सरसों की खेती  किसानों के लिए   हुई लाभदायक , खेती से लाभ  और  उन्नत तकनीकी से  सरसो  की खेती  जानिये कैसे  करे । किसानों को इस साल सरसों की खेती से काफी बेहतर दाम मिल सकते हैं. वहीं, केंद्र सरकार इसके न्यूनतम समर्थन मूल्य में 400 रुपये की बढ़ोतरी कर रही है. अच्छी कीमतों और सरकारी प्रयासों के कारण उम्मीद है कि आने वाले रबी सीजन में सरसों का उत्पादन दोगुना हो सकता है.

रबी की फसलों में सरसों का महत्वपूर्ण स्थान माना जाता था। यह मुख्य रूप से देश के कई राज्यों जैसे राजस्थान, पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में उगाया जाता है। लेकिन राजस्थान में किसान मुख्य रूप से भरतपुर, सवाई माधोपुर, अलवर, करौली, कोटा, जयपुर और धौलपुर जैसे जिलों में सरसों की बुआई करते हैं। सरसों के बीज में तेल की मात्रा 30 से 48 प्रतिशत तक होती है।

सरसों उगाने के लिए जलवायु

सरसों शरद ऋतु में उगाई जाती है। अच्छे उत्पादन के लिए 15 से 25 सेल्सियस तापमान आवश्यक है. इससे उनकी फसल अच्छी होती है.

मिट्टी कैसी होनी चाहिए
हालाँकि इसे सभी मिट्टी में उगाया जा सकता है. हालाँकि, दोमट और रेतीली मिट्टी सबसे उपयुक्त मानी जाती है। यह फसल मध्यम क्षारीयता को सहन करेगी। लेकिन मिट्टी अम्लीय नहीं होनी चाहिए.

सरसों की खेती  किसानों के लिए   हुई लाभदायक , खेती से लाभ  और  उन्नत तकनीकी से  सरसो  की खेती  जानिये कैसे  करे
सरसों की खेती  किसानों के लिए   हुई लाभदायक , खेती से लाभ  और  उन्नत तकनीकी से  सरसो  की खेती  जानिये कैसे  करे

Read also :- MPPSC Bharti 2023 – उम्मीदवारों के लिए अच्छी खबर, इतने पदों पर होगी भर्ती, जाने नियम 

सरसों की उन्नत किस्में

आरएच 30: सिंचित और असिंचित परिस्थितियों में गेहूं, चना और जौ उगाने के लिए उपयुक्त।
टी 59 (वरुण):- इसकी उपज असिंचित क्षेत्र में 15 से 18 हेक्टेयर तक होती है। इसमें तेल की मात्रा 36 प्रतिशत होती है.
पूसा बोल्ड:- आशीर्वाद (आर.के. 01 से 03): यह किस्म देर से बुआई (25 अक्टूबर से 15 नवंबर) के लिए उपयुक्त है।
अरावली (RN393):- सफेद सड़न के प्रति मध्यम प्रतिरोधी।
इस तरह खेती करने के लिए तैयार हो जाइए

सरसों की खेती  किसानों के लिए   हुई लाभदायक , खेती से लाभ  और  उन्नत तकनीकी से  सरसो  की खेती  जानिये कैसे  करे

सरसों के लिए छोटी मिट्टी अधिक लाभदायक होती है। इसके लिए खरीफ की फसल के बाद गहरी जुताई करना जरूरी है. और फिर तीन से चार बार देशी हल से जुताई करना फायदेमंद रहता है. नमी को संरक्षित करने के लिए हमें बोर्ड लगाने की जरूरत है।

खाद का उपयोग

सिंचित फसलों के लिए 7 से 12 टन सड़ी हुई गाय का गोबर, 175 किलोग्राम यूरिया, 250 किलोग्राम साधारण सुपरफॉस्फेट, 50 किलोग्राम म्यूरेट ऑफ पोटाश और 200 किलोग्राम जिप्सम बुआई से पहले खेत में डालना चाहिए। यूरिया की आधी मात्रा बुआई के समय तथा शेष आधी मात्रा पहली सिंचाई के बाद खेत में डालनी चाहिए।

सरसों की खेती से मुनाफा

प्रति एकड़ सरसों की बुआई में 4000 रुपये का खर्च आएगा. इससे सरसों का मूल्य 12 से 15 सेंट हो जाता है। जो चार से पांच हजार रुपये प्रति कौड़ी में बिकता है। इससे 50 से 60 हजार रुपये आसानी से कमा सकते हैं.

Read also :- 25 दिन में पैसा हुआ डबल… इन छह शेयरों ने पकड़ी रॉकेट की रफ़्तार, निवेशकों की हुई चांदी ही चांदी

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

किसान बन सकते है लखपति इस फल  की खेती करके , जाने इस फल का नाम क्या है

स्ट्रॉबेरी की खेती से गरीब किसानों को भी मिलेंगे लाखों रुपए, कम...