Tuesday , 11 June 2024
Home देश Ram Mandir : 22 जनवरी राम मंदिर प्राण-प्रतिष्ठा समारोह , प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्राण प्रतिष्ठा संपन्न करने के बाद सम्बोधन , जानिए पूरी जानकारी
देश

Ram Mandir : 22 जनवरी राम मंदिर प्राण-प्रतिष्ठा समारोह , प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्राण प्रतिष्ठा संपन्न करने के बाद सम्बोधन , जानिए पूरी जानकारी

Ram Mandir : 22 जनवरी राम मंदिर प्राण-प्रतिष्ठा समारोह , प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्राण प्रतिष्ठा संपन्न करने के बाद सम्बोधन , जानिए पूरी जानकारी। प्राण प्रतिष्ठा करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण में कहा कि आज हमारे राम आये हैं! 22 जनवरी 2024 कैलेंडर पर लिखी तारीख नहीं है. यही नये समय चक्र की उत्पत्ति है। 22 जनवरी 2024 का ये सूरज एक खूबसूरत आभा लेकर आया. पूरा देश आज दिवाली मना रहा है. आज रात घर-घर में रामज्योति जलाने की तैयारी की सूचना है। आज गांव-गांव में एक साथ कीर्तन और संकीर्तन होते हैं। आज मंदिरों में उत्सव होते हैं, स्वच्छता के अभियान चल रहे हैं। पूरा देश आज दिवाली मना रहा है. आज रात घर-घर में रामज्योति जलाने की तैयारी चल रही है.

मुझे सागर से सरयू-पीएम तक कार से यात्रा करने का अवसर मिला

अपने 11-दिवसीय उपवास अनुष्ठान के दौरान, मैंने उन स्थानों को अपने पैरों से छूने की कोशिश की, जहां भगवान राम के पैर गिरे थे, चाहे वह नासिक में पंचवटी धाम हो, केरल में त्रिप्रयार पवित्र मंदिर, आंध्र प्रदेश में लेपाक्षी, श्रीरंगम, चाहे वह रंगनाथ स्वामी मंदिर हो, श्री रामनाथस्वामी हो। रामेश्‍वरम में मंदिर हो या धनुषकोडी… मैं बहुत भाग्यशाली हूं कि मुझे इस पवित्र भावना के साथ सागर से सरयू तक कार से यात्रा करने का अवसर मिला।

Ram Mandir : 22 जनवरी राम मंदिर प्राण-प्रतिष्ठा समारोह , प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्राण प्रतिष्ठा संपन्न करने के बाद सम्बोधन , जानिए पूरी जानकारी
Ram Mandir : 22 जनवरी राम मंदिर प्राण-प्रतिष्ठा समारोह , प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्राण प्रतिष्ठा संपन्न करने के बाद सम्बोधन , जानिए पूरी जानकारी

Read also :- Ram Mandir : 22 जनवरी राम मंदिर प्राण-प्रतिष्ठा समारोह के अवसर पर ,किस रंग के वस्त्र धारण करेंगे रामलला, जानिये

राम केवल विद्यमान नहीं हैं, राम शाश्वत हैं

भगवान राम भारत की आत्मा के कण-कण से जुड़े हैं। राम को हर युग में लोगों ने जिया है। राम सबके हैं. राम केवल विद्यमान नहीं हैं, राम शाश्वत हैं। भगवान राम भारत की आत्मा के कण-कण से जुड़े हुए हैं। राम भारत के जन-जन के हृदय में बसते हैं। हर युग में लोगों ने राम को अपने-अपने शब्दों में, अपने-अपने ढंग से व्यक्त किया। और यह राम रस, जीवन निरंतर एक धारा की तरह बहता रहता है।

राम के आदर्श, राम के मूल्य, राम की शिक्षाएं हर जगह एक जैसी हैं।

आज अयोध्या में श्री राम की मूर्ति के स्वरूप की ही प्राण प्रतिष्ठा नहीं की गई है. यही भारतीय संस्कृति के प्रति अटूट आस्था की प्राणवायु भी है जो श्री राम के रूप में प्रकट हुई है। वे मानवीय मूल्यों एवं उच्चतम आदर्शों के भी प्रतीक हैं। राम मंदिर भारतीय दृष्टि, भारतीय दृष्टिकोण, भारतीय नेतृत्व का मंदिर है। आइए हम अपने जीवन का हर पल राष्ट्र निर्माण के लिए समर्पित करने का वादा करें। प्राचीन काल से ही भारत के कोने-कोने के लोग रामरास की पूजा करते आये हैं। रामकथा अनन्त है, रामायण भी अनन्त है। राम के आदर्श, राम के मूल्य, राम की शिक्षाएं हर जगह एक जैसी हैं।

22 जनवरी 2024 कैलेंडर पर लिखी तारीख नहीं है. यही नये समय चक्र की उत्पत्ति है।

ये भव्य राम मंदिर भारत की प्रगति, भारत के उत्थान का गवाह बनेगा। यह भव्य राम मंदिर एक महान भारत, एक विकसित भारत के उद्भव का गवाह बनेगा। यह क्षण अलौकिक है. यह क्षण पवित्र है. ये वातावरण, ये माहौल, ये ऊर्जा, ये पल… भगवान श्री राम ने हम सबको आशीर्वाद दिया है। 22 जनवरी 2024 कैलेंडर पर लिखी तारीख नहीं है. यह एक नये युग की शुरुआत है

Read also :- Ram Mandir : 22 जनवरी राम मंदिर प्राण-प्रतिष्ठा समारोह ,श्रीरामलला की मनमोहक रूप  जानिये कैसा है 

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Indian Railways | रेल यात्रियों के लिए बड़ी खुशखबरी, वेटिंग टिकट कैंसलेशन चार्ज को लेकर हुआ बदलाव 

जाने अब काटेंगे कितने रूपये  Indian Railways – भारतीय रेलवे ने यात्रियों...

Gold Silver Rate Today | आज सोना हुआ सस्ता तो चांदी हो गई महंगी 

जाने आज के ताजा रेट  Gold Silver Rate Today – आज, यानी...

NEET UG Admit Card | नीट यूजी 2024 एडमिट कार्ड जल्द होगा जारी!

NEET UG Admit Card – नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) द्वारा आयोजित होने...

Supreme Court | स्त्रीधन पर नहीं पति का कंट्रोल – सुप्रीम कोर्ट

यह महिला की पूर्ण संपत्ति, मर्जी से खर्च करने का हक Supreme Court...