Home देश Waste Food Astrology – आप खाना खाने की थाली में जूठा खाना छोड़ते है तो अन्नपूर्णा का अनादर माना जाता है
देश

Waste Food Astrology – आप खाना खाने की थाली में जूठा खाना छोड़ते है तो अन्नपूर्णा का अनादर माना जाता है

Waste Food Astrology – नई दिल्ली – वैसे तो हिन्दू धर्म के अनुसार यदि आप खाना खाते समय अपनी भोजन की थाली में जूठा भोजन छोड़ते है तो इससे माता अन्नपूर्णा का अनादर माना जाता है क्योंकि भोजन में साक्षात माता अन्नपूर्णा का वास होता है और हम उसी भोजन को इधर-उधर फेंक देते है और जिससे माता अन्नपूर्णा का अपमान माना जाता है और इससे माता अन्नपूर्णा क्रोधित हो जाती है और यदि आप भी भी अपनी थाली में जूठा खाना छोड़ते है तो आज से ही बंद कर दे क्योंकि आपको बता दें ऐसा करने से आपको गंभीर परिणामों का भी सामना करना पड़ सकता हैं।

थाली में जूठा भोजन छोड़ने से आर्थिक संकट का सामना करना पड़ सकता है | Waste Food Astrology

क्या आप अपने भोजन करने की थाली में जूठा भोजन छोड़ते है तो आपकों भारी संकट से जुझना पड़ सकता है क्योंकि भोजन करते समय आपको यह अवश्य ही ध्यान में रखना चाहिए की आप जितना भी खा सकते हो उतना ही खाना अपनी थाली में ले अन्यथा न ले जिससे की जूठा भोजन इधर-उधर नहीं डलेगा और आपको किसी भी परेशानी का सामना भी नहीं करना पड़ेगा। और यदि आप भी जूठा भोजन थाली में छोड़ते हैं तो ज्योतिषाचार्यों के अनुसार ऐसा करना आपको भारी आर्थिक संकट में डाल सकता है। साथ ही ऐसा करने से आपके घर के बच्चों की बुद्धि भी कमजोर होती जाती है।

भारत कई राज्यों में इसे लेकर कई मान्यताएं हैं

चलिए जानते हैं थाली में जूठा खाना छोड़ने से क्या दुष्परिणाम आपको झेलने पड़ सकते हैं। हालांकि अनेक धर्मो वाले इस भारत देश के कई राज्यों ऐसे है जहां पर खाना खाने की थाली में जूठा भोजन छोड़ने को लेकर अलअ-अलग धार्मिक मान्यताएं भी हैं। और कई राज्यों में तो थाली में जूठा भोजन छोड़ना ही पड़ता है क्योंकि यह भी कहां जाता है कि भारत के कुछ राज्य ऐसे भी है जहां पर थाली में जूठा भोजन छोड़ना उनके राज्य की परंपरा भी मानी जाती है।

थाली में जूठा खाना क्यों नहीं छोड़ना चाहिए | Waste Food Astrology

भारत में हिन्दू धर्म में कई मान्यताएं ऐसी भी है जिसके अनुसार भोजन को मां अन्नपूर्णा का आशीर्वाद माना जाता है। ऐसे में यदि आप थाली में जूठा खाना छोड़ते हैं तो ये मां अन्नपूर्णा का घोर अपमान भी माना जाता है। और शास्त्रों के अनुसार जिस भी घर में माता अन्नपूर्णा का अपमान होता है वहां पर या उस घर में मां अन्नपूर्णा और मां लक्ष्मी का वास नहीं होता। यानि कि उस घर से देवी लक्ष्मी रूठ जाती हैं।

भोजन करने के क्या नियम हैं

शास्त्रों के अनुसार भोजन करने से संबंधित कुछ नियमों का उल्लेख किया गया है, जिनका पालन करने से घर में कभी भी अन्न की कमी नहीं होती है। और शास्त्रों के अनुसार कभी भी अपने खाना खाने की थाली में जूठा भोजन नहीं छोड़ना चाहिए। ऐसा करने से मां अन्नपूर्णा और लक्ष्मी जी क्रोधित हो जाती हैं। और ऐसा न हो इसके लिए हमे यह अवश्य ही ध्यान में रखना चाहिए कि अपने अपने खाना खाने की थाली में जूठा भोजन न छोड़े जिससे की हमे किसी भी परेशानी का सामना न करना पड़े।

थाली में जूठा भोजन छोड़ने के क्या है गंभीर परिणाम

आपके बच्चे पढ़ाई में कमजोर होते हैं | Waste Food Astrology

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जो बच्चे थाली में जूठा भोजन छोड़ते हैं वे पढ़ाई में कमजोर होत जाते हैं। उनका मन पढ़ाई से धीरे -धीरे पूरी तरह हट जाता है। इसलिए बच्चे पहली बार में जितना खा सकते हैं उतना ही उन्हें परोसें। यहां तक कि बच्चों के गलत सांगत में पढ़ने के आसार भी बढ़ जाते हैं।

शनि का प्रकोप बढ़ जाता है

ये अवश्य ही ध्यान में रखे की यदि आप अपनी थाली में जूठा भोजन छोड़ते है तो आपको ऐसा करने से शनि के भारी प्रकोप का भी सामना करना पढ़ सकता है। इतना ही नहीं इससे चंद्रमा की भी अशुभ दृष्टि मनुष्यों के जीवन पर पड़ने लग जाती है। चंद्रमा की भी अशुभ दृष्टि के कारण आपको किसी भी प्रकार की मानसिक बीमारियां घेर सकती हैं।

आपके कोई भी काम सफल नहीं हो पाते है | Waste Food Astrology

यदि आप कभी यात्रा पर जा रहे हैं और इस दौरान जूठा भोजन आप इधर-उधर फेंकते हैं, तो आपके किसी भी प्रकार के काम कभी भी सफल नही होते हैं। और साथ ही साथ आपके हर बनते काम भी बिगड़ने लगते है।

ऐसा करने से आप पाप के भागीदार बनते है

जो भी व्यक्ति अपने खाना खाने की थाली में जूठा भोजन छोड़ता है तो वह अवश्य ही पाप का भागीदार बन जाता है। इसलिए आप हर संभव यह कोशिश करें कि भोजन के दौरान उतना ही खाना लें जितना आप खाना चाहते हैं। यदि किसी कारण वश भोजन थाली में छूट जाता है तो हाथ जोड़कर मां अन्नपूर्णा से क्षमा प्रार्थना अवश्य करे।

आपके घर पनपने लगता है में कलह | Waste Food Astrology

हिन्दू धार्मिक मान्यताओं में ऐसा माना जाता है कि अपनी थाली में जूठा भोजन छोड़ने से घर में हर समय कलह का वातावरण बनने लगता है। इतना ही नहीं छोटी – छोटी सी बातों को लेकर परिवार के सदस्यों के बीच झगड़े-झांसे भी होने लगते हैं। जिससे परिवार में दरार पड़ने लगती है। जिन लोगों को दूसरों के घर जाकर जूठा छोड़ने की आदत होती है उन लोगों के साथ उनके अपने ही लोग विश्वासघात भी कर सकते है।

थाली में जूठा भोजन छोड़ने से कौन से ग्रह क्रोधित हो जाते है |

ज्योतिष शास्त्र में झूठा भोजन छोड़ने के स्वभाव के पीछे कुछ महत्वपूर्ण कारण भी होते हैं। जैसे की आपकी कुंडली में जब बुध और बृहस्पति बहुत ही खराब दिशा या दशा में हों तो व्यक्ति अन्न के प्रति लापरवाह हो जाता है और थाली में झूठा भोजन छोड़ने की गलत आदत उसे लग जाती है।

थाली में जूठा भोजन छोड़ने और उसके पाप से बचने के उपाय l

पहला सबसे बड़ा और सबसे महत्वपूर्ण उपाय यह है कि आप अपेन खाना खाने की थाली में उतना ही भोजन लें जितना आपको खाना हो। आप हर संभव यह कोशिश करें कि अपनी थाली में जरा सा भी जूठा भोजन थाली में न छोडे।

खाना खाने से पहले थाली में से अग्रासन निकालें। यानि खाना खाने से पहले 1 या 2 ग्रास गाय, कुत्ते या पक्षी के लिए अपनी थाली से थोड़ा सा भोजन अवश्य ही निकाले फिर स्वयं भोजन करना शुरू करें।

और आप रोजाना नियमित रूप से भगवान गणेश जी की आराधना करें और उसके बाद ही भोजन करना शुरू करें।
अन्न का अपमान करने से अन्न का भारी दोष भी लगता है। ऐसे में इससे बचने के लिए हनुमान जी को श्रद्धा पूर्वक बूंदी के लड्डुओं का भोग अवश्य ही लगाएं।

Source – Internet

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Oppo Reno 10 – सीरीज होगी भारत में लॉन्च, जाने इसके फीचर्स और डिजाइन

Oppo Reno 10 – अगले महीने लॉन्च होने वाले कई स्मार्टफोन सीरीज...

Farming – कम पानी में धान की खेती करना चाहते हैं तो अभी सीधी बुवाई की तैयारी

Farming – भारत मौसम विज्ञान विभाग के पूर्वानुमान ने वैसे तो इस...

Sawan Upay – इस बार सावन में करें ये 5 उपाय, आपकी सारी मन्नतें होगी पूरी

Sawan Upay – वैसे तो हिंदू धर्म में सावन का महीना बहुत...