Tuesday , 16 April 2024
Home खेती Tomato Farming – बरसात के कारण फसलों में लगी बीमारी, किसानों के लिए लागत निकालना मुश्किल हुआ
खेतीदेश

Tomato Farming – बरसात के कारण फसलों में लगी बीमारी, किसानों के लिए लागत निकालना मुश्किल हुआ

Tomato Farmingकिसानों ने यह भी बताया कि उन्होंने इस बार बड़े स्तर पर टमाटर की खेती की थी। खेत में टमाटर पके हुए थे। बस एक से दो दिन में उसकी तुड़ाई शुरू होने वाली थी। और वहीं उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में मौसम ने अचानक करवट बदली और देखते ही देखते आसमान में काले बादल छा गए।

इसके बाद तेज हवाओं के साथ बारिश का भी शुरू हो गयी। इससे लोगों को गर्मी से राहत तो मिली, लेकिन किसानों के लिए यह बारिश मुसीबत बन गई। बारिश से खेत में लगी टमाटरए तरबूज और खरबूज की फसल को बहुत नुकसान पहुंचा है। खास कर बारिश होने से टमाटर खराब होने लगे हैं। ऐसे में किसान परेशान हो गए हैं।

बारिश की वजह से तरबूज और खरबूज में आए दाग-धब्बे | Tomato Farming

रिपोर्ट के अनुसार किसानों का कहना है कि पिछले साल बाजार में टमाटर, तरबूज, खरबूज और खीरे का रेट अच्छा था। इसके चलते किसानों ने इस बार इन्हीं फसलों की खेती की थी। जबकि अच्छी कमाई हो। लेकिन, अचानक हुई बारिश ने सबकुछ चौपट कर दिया।

किसानों ने बताया कि बारिश के कारण से तरबूज, खरबूज, और टमाटर की फसल में बिमारी भी लगना शुरू हो गई हैं। इससे फल खराब होने लगे हैं। साथ ही तरबूज और खरबूज में दाग- धब्बे आ गए हैं। इससे बाजार में इसकी कीमत काफी कम हो गई है। ऐसे में किसान लागत भी नहीं निकाल पा रहे हैं।

थोक व्यापारी टमाटर को खरीदने से डर रहे हैं

इस बार बड़े पैमाने पर टमाटर की खेती की थी। खेत में टमाटर पके हुए थे। बस एक से दो दिन में उसकी तुड़ाई शुरू होने ही वाली थी। लेकिन इससे पहले ही बारिश हो गई, जिससे टमाटर में कीड़े लग गए और टमाटर सड़ने भी शुरू हो गए।

अब बाजार में थोक के व्यापारी टमाटर को खरीदने मेें डर रहे हैं। बस इस बार उसने 2 बीघे में टमाटर की खेती की थी। इसके ऊपर 60 हजार रुपये खर्च हुए थे। लेकिन अब लग रहा है कि इसकी लागत भी नहीं निकल पाएगी।

किसानों ने बड़े पैमाने पर तरबूज और खरबूज की खेती की है | Tomato Farming

वहीं किसानों ने यह भी बताया कि इस बार 70 हजार रुपये खर्च कर उन्होंने चार बीघे में तरबूज और खरबूज की खेती की थी। लेकिन बारिश आ जाने के कारण से तरबूज और खरबूज के फल सड़ने लगे हैं। साथ ही उसमें दाग और धब्बे भी आ गए हैं।

ऐसे में मंडी में किसानों की इस फसल की उचित कीमत नहीं मिल पा रही है। अगर मंडी में ऐसा ही रेट चलता रहा, तो इस बार तरबूज, खरबूज की खेती में किसानों को भारी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। बता दें कि बारिश की वजह से महाराष्ट्र में किसानों को बहुत ज्यादा नुकसान हुआ है। सैकड़ों एकड़ में लगी प्याज की फसल को भी भारी नुकसान पहुंचा है।

Source – Internet

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

जाने वन्दे भारत ट्रैन में क्या क्या मिलती है सुविधा और कितना आ सकता है इसका खर्चा | Vande Bharat

Vande Bharat: भारतीय रेल जल्‍द ही नई वंदे भारत स्‍पीलर एक्‍सप्रेस ट्रेनों...

Maha Shivratri Mehndi designs : महाशिवरात्रि श्रावण महोत्सव के अवसर  पर लगाएं ये खास मेहंदी डिजाइन 

इस महाशिवरात्रि पर्व पर कई महिलाएं मेहंदी लगाना पसंद करती हैं। इस...

MSP Price – सरकार ने तय किया गेहूं, सरसों व चने का MSP, जानिए कब से होगी खरीद

MSP Price – नई दिल्ली: भारत सरकार ने 2023-24 के रबी विपणन...

Kheti Kisani – खेतों में फसलों को सुरक्षित रखने सबसे फायदेमंद है नीम का तेल

कीटों को भी प्रभावी ढंग से करता है नियंत्रित  Kheti Kisani –...